हो न सके|


गमी दिल में यूँ छाई कि हम सो न सके 
                                    अश्क आँखों में है मगर हम सो न सके|



नक्श आँखों में है मगर हम रो न सके
                                         वो थे इन सांसो में मगर कभी मिल न सके| 


अजब दास्ताँ है सुन ले ये खुदा तू भी
                                     हम थे उनके मगर वो मेरे कभी हो न सके|                                             

5 comments:

sunil shukla July 31, 2011 at 11:15 PM  

very nice.....

sunil shukla July 31, 2011 at 11:19 PM  

kyu yaad aata hai wo kal.jo laut kar nahi aayega,itna malum na tha ki waqt is tarah guzar jayega.ji bhar k ji lo aaj ko,kyoki ye aaj fir kal bn jayega....

Shipra Pandey August 15, 2011 at 8:33 AM  

niceeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee

sunil shukla August 18, 2011 at 1:26 AM  

Roye Hein Buhat Tab Zara Karaar Mila He

Is Jahan Mein Kise Bhala Sacha Pyar Mila He

Guzar Rahi Hey Zindagi Imtehan Ke Daur Se

Ek Khatam Howa To Dosra Tayar Mila He

Mere Damaan Ko Khushiyo Ka Nahi Malaal

Gham Ka Khazana Jo Isko Beshumar Mila He

Who Kamnasib Hein Jinhe Mehboob Mil Gaya

Mein Khushnasib Ho Mujhe Intezar Mil Gaya

शिप्रा पाण्डेय "शिप" August 18, 2011 at 3:53 AM  

very nice lines...............nd thanks bro ...................

Post a Comment

"निमिश"

"निमिश" अर्थात पल का बहुत छोटा हिस्सा जितना कि लगता है एक बार पलकों को झपकने में | हर निमिश कई ख़याल आते हैं, हर निमिश ये पलकें कई ख़्वाब बुनती हैं | बस उन्ही ख़्वाबों को लफ्जों में बयान करने की कोशिश है | उम्मीद है कि आप ज़िन्दगी का निमिश भर वक़्त यहाँ भी देंगे | धन्यवाद....