वो मिलने आ गए है|

गुस्ताखी है गर देखते है बंद करके आँखे उन्हें,
खोला तो फिर क्यों नज़र आ गए है|




                                                       हम थे रखे उन्हें अपने खयालो में
                                                           देखते ही उनकी जुबान पे हम क्यों आ गए है| 
       हम नही सोचते थे के हो रु-ब-रु इस कदर
       सारी कायनात थी खड़ी वो मिलने आ गए है|

4 comments:

sunil shukla August 18, 2011 at 12:17 AM  

Bhool jana yaron itna aasan nahi hota,

Zakhmon ke nishan mitana aasan nahi hota.

Mana ho jisne yaar ko khuda,

Unko chhod jana asaan nahi hota…

sunil shukla August 18, 2011 at 12:27 AM  

ye pyar ka saroor hai..na koi gustakhi hai
khuli ho aankhe ya band rahe....
teri nigaho mei bas tera hi saaki hai...

wo tumhare khayalo mei aur tum unki juban pe rehte ho
phir kyon sawalon ka aalam hai...do jism ek jaan se lagte ho

शिप्रा पाण्डेय "शिप" August 18, 2011 at 3:56 AM  

wow dada ap to cmnt bhi bde sayarana andaz m karte hain............
realy nice lines.................

शिप्रा पाण्डेय "शिप" August 18, 2011 at 3:57 AM  

dhanyavad..................

Post a Comment

"निमिश"

"निमिश" अर्थात पल का बहुत छोटा हिस्सा जितना कि लगता है एक बार पलकों को झपकने में | हर निमिश कई ख़याल आते हैं, हर निमिश ये पलकें कई ख़्वाब बुनती हैं | बस उन्ही ख़्वाबों को लफ्जों में बयान करने की कोशिश है | उम्मीद है कि आप ज़िन्दगी का निमिश भर वक़्त यहाँ भी देंगे | धन्यवाद....