जलन

ढूद्ती रहती है नज़रें हर घडी उनको ,
सहर से शाम तलक याद करें हम उनको | 
वो काश मेरे होते तो गम कैसा,
न मिले तो दिल पर क्या बीतेगी क्या पता उनको 


                                   सांझ की दहलीज पर  दिखा  रौशनी सा है,
                                    जाने दिल है जला या जला है दिया |
                                    जलन की आग सुलग रही है ऐसे,
                                          कितने सपने जला गई क्या पता उनको|

                                                


1 comments:

sunil shukla August 18, 2011 at 12:15 AM  

kuchh is kadar buland kar aashiyana apne pyar ka
ki unhe bhi khabar ho tere har tadap ke ahsas ka

na roshni ki aash kar jalte huye diyo se
Dil ko jala de is kadar
ki wo bhi tadap uthey tere jalan se

har sapne ko jal jaane de is kadar
ki tere aagosh mei wo bikhar jaye
tu mange uska saath toh
wo apni har sans tere naam kar jaaye

Post a Comment

"निमिश"

"निमिश" अर्थात पल का बहुत छोटा हिस्सा जितना कि लगता है एक बार पलकों को झपकने में | हर निमिश कई ख़याल आते हैं, हर निमिश ये पलकें कई ख़्वाब बुनती हैं | बस उन्ही ख़्वाबों को लफ्जों में बयान करने की कोशिश है | उम्मीद है कि आप ज़िन्दगी का निमिश भर वक़्त यहाँ भी देंगे | धन्यवाद....