अफ़सोस...

किसी गैर को अपना कह रहे थे हम 
 उसी गैर की खातिर जी रहे थे हम
आज एक झटके में टूटी है नींद अपनी 
कि अब तो लगती ही नही आँखें यारों...|


अब न रहा किसी पे ऐतबार अपना
न करेंगे यकीं न प्यार इतना 
 और दर्द  सहने की हिम्मत नहीं अपनी
कि खुदा से भी न रहा कोई गिला यारों...|

कभी एक प्यारा सा घरोंदा था बनाया 
आज वो एक पल में  यूँ ही ढह गया 
किसी से इतनी दिल्लगी हो गई 
कि दिल के टुकड़ों पे यकीं न रहा यारों...|

न कहेंगे किसी को अब अपना
न बुन सकेंगे कोई और सपना 
जो हो गया वो थी अपनी किस्मत 
अफ़सोस...
हम  बदल न सके  हाथों की लकीरें यारों ...|



5 comments:

sunil shukla August 29, 2011 at 4:30 AM  

Afsos Hota Hai Us Pal

Jab Apni Pasand Koi Chura Leta Hai

Hum Khawabon Mein Dekha Karte Hain Use

Aur Haqiqat Koi Aur Bana Leta Hai

sunil shukla August 29, 2011 at 4:34 AM  

Kisi Sham Mujhe Toot Kar Bikharta Dekho

Meri Ragon Mein Zeher Judai Ka Utarta Dekho

Kis-Kis Ada Se Unhe Maanga Tha Rab Se

Aao Kabhi Mujhe Duaon Mein Siskta Dekho…

sunil shukla August 29, 2011 at 4:44 AM  

Kya Tha Kasoor

Sawalon Me Ulajh Ke Reh Gayi Duniya Meri
Kyo Hui Aise Jo Hai Aaj Haalat Meri
Kya Tha Kasoor Jo Mili Itne Badi Saza
Kya Hai Teri Bewafai Ki Wajah
Kyo Toda Tumne Mere Dil Ko
Kya Thi Kami, Sirf Jaan Hi Toh Na Di Thi Tumko
Agar Maang Laati Meri Jaan Bhi Toh Shayad Itna Dard Na Hota
Jitna Jeene Me Teri Bewafai Ke Saath Hota Hai
Ek Ehsaan Ker, Apne Saath Leja Apni Yaadon Ko
Apni Muskurahat Aur Apni Baato Ko…

sunil shukla August 29, 2011 at 5:08 AM  

Koi achha lage to use pyar mat karna,

Uske liye apni neenden bekaar mat karna,

Do din to aayenge khushi se milne,

Teesre din kahenge mera intejaar mat karna

शिप्रा पाण्डेय "शिप" January 12, 2012 at 4:58 AM  

kya khub likhte ho bhai...
aap hmare blog p likhna pasand kare too hm apke behad shukrguzar honge,,,
jra hmari bato pr gaur farmaiega,,,,

Post a Comment

"निमिश"

"निमिश" अर्थात पल का बहुत छोटा हिस्सा जितना कि लगता है एक बार पलकों को झपकने में | हर निमिश कई ख़याल आते हैं, हर निमिश ये पलकें कई ख़्वाब बुनती हैं | बस उन्ही ख़्वाबों को लफ्जों में बयान करने की कोशिश है | उम्मीद है कि आप ज़िन्दगी का निमिश भर वक़्त यहाँ भी देंगे | धन्यवाद....